• शत्रुओं से पीड़ा
    उत्साह हीनता
    नपुंसकता
    विवाह में अड़चनें
    निर्माण कार्यों में समस्याएं
    व्यक्ति के पास जो भी सांसारिक होता है उसका कारण मंगल है. लालसा, अभीप्सा,
    निर्माण, संयोजन, अभियान, जिजीविषा, अहम...
  • भूमि और संपत्ति विवाद
    खून की कमी
    भाईयों से विवाद
    ऋण ग्रस्तता
    चोट और एक्सीडेंट्स
    व्यक्ति के पास जो भी सांसारिक होता है उसका कारण मंगल है. लालसा, अभीप्सा,
    निर्माण, संयोजन, अभियान, जिजीविषा, अहम...

Mangal

व्यक्ति के पास जो भी सांसारिक होता है उसका कारण मंगल है. लालसा, अभीप्सा, निर्माण, संयोजन, अभियान, जिजीविषा, अहम, स्पर्धा, पराक्रम, सहयोग, विजय सब मंगल है. मंगल को भूमि पुत्र कहा गया है. मंगल के ही कारण व्यक्तित्व विस्तार पाता है. मानवीय अहम और व्यक्तित्व का निर्माता मंगल है.
जन्मकुंडली में मंगल यदि बलहीन अथवा पीड़ित हो तो व्यक्ति ऋण, भूमि एवं अचल संपत्ति विवाद, शत्रुओं से पीड़ा, रोगग्रस्त, उत्साहहीनता, भाईयों से विवाद, ब्लडप्रेशर, रक्त की कमी, चोट एवं दुर्घटनाओं, धोखाधड़ी जैसी चीजों का शिकार हो जाता है. इस स्थिति में मंगल का ज्योतिषीय विश्लेषण और समस्या निदान व्यक्ति को उपरोक्त लक्षणों से बचा सकता है.

Quick Intuition

Ask Your Question

Find Solution for Sudden Uncertainties

Rashifal 2017