Court Cases

कुंडली का षष्टम भाव व्यक्ति की आंतरिक क्षमता और निर्बलता को बताता है. मंगल इस भाव का नैसर्गिक कारक है. जब यह आंतरिक शक्ति प्रकृति की विघटनकारी और दुखद स्थितियों का सामना नहीं कर पाती तो व्यक्ति शत्रुओं और कानूनी दिक्कतों का शिकार हो जाता है. कब और कैसे वह इन शत्रुओं और कानूनी समस्याओं से मुक्ति पायेगा इसे षष्टम भाव और उसपर पड़ने वाले दूसरे ग्रहों के प्रभाव द्वारा जाना जाता है. अष्टम भाव का अध्ययन भी इस समस्या में किया जाता है. इस विषय में कौन से उपाय उसे राहत देंगे इसका विश्लेषण होता है.

Note : इस सेवा के लिए अधिकतम दो दिन का समय लगेगा.

Sixth house in birth chart depicts the internal capabilties and weakness of a person. Mars is the natural Significator of this house. When this internal power is not able to fight against the dissolving powers and painful situations, the person has to face legal problems and tough time with enemies. When and how one can get rid of these legal problems and enemies can be found by studying the sixth house and the planets that effects sixth house. Study of eight house is also considered for these calculations. A detailed study is done to identify the remedy that will help the most.

Note : This service will take maximum two days.