Category Archives: भविष्यवाणियां

नाड़ी ताड़पत्र फलादेश

नाड़ी ताड़पत्र फलादेश अपने आप में एक अत्यंत रहस्मय1383046_566342816766926_256198462_n प्राचीन
भारतीय विधा है.
इसमें अगस्त्य , कौशिक , काक भुजंदर , अत्री , नंदी आदि अनेक ऋषियों द्वारा मानव मात्र के लिए किया गया भविष्य फलादेश निहित है.

नाड़ी ताड़पत्र फलादेश ज्योतिष नहीं है.
यद्यपि इसमें जातक की दशाओं और गोचर का विवरण मिलता है जो केवल प्रासंगिक है.

यह दिव्य वाक्य है जो की भगवान् शिव और मां पार्वती के मध्य हुआ जातक संबंधी वार्तालाप है.
मां पार्वती भगवान् शिव से जातक संबंधी प्रश्न पूछती हैं और भगवान् उसका जवाब देते हैं.
इस वार्तालाप में जातक के संबंध में इतनी विशद जानकारी उपलब्द्ध होती है की वो वर्तमान जन्म का अतिक्रमण कर जाती है.
भगवान् द्वारा व्यक्ति की समस्या उसके कारण और परिहार के बारे में विस्तृत रूप से बताया जाता है.

दक्षिण का वैतीस्वरण कोईल इस विधा का गढ़ है. देश के अनेक प्रमुख नगरों में भी इनके केंद्र हैं.
जैसा की जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में आज नक्कालों का अस्तित्व है वैसे ही ये विधा भी ठगों की भेंट चढ़ चुकी है. अत: सावधानी अपेक्षित है…

ध्रुव स्थानांतरण

कुछ समय पहले एक फिल्म आई थी ‘2012’.
इसमे दिखाया गया था की ध्रुव अपना स्थान बदल लेते हैं और प्रतिक्रिया स्वरुप पृथ्वी पर महाविनाश होता है. केवल थोड़े से भाग्यशाली ही इसमें बच पाते हैं.

यह फिल्म कोरी कल्पना पर आधारित नहीं है बल्कि इसका आधार है महान भविष्यवक्ता ‘एडगर केसी’ की वो भविष्यवाणी जिसमे उन्होंने निकट भविष्य में उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों द्वारा अपना स्थान बदल लेने की भविष्यवाणी की है.
‘एडगर केसी’ के अनुसार ध्रुवों के स्थानांतरण के फलस्वरूप महाविनाश होगा. ज्वालामुखी विस्फोटों के बाद भूकंपों की एक श्रृंखला चलेगी और समुद्र अधिकांश भूमि को डुबो देगा.
वर्तमान ‘पोलारिस’ नामक ध्रुव तारे की जगह ‘वेगा’ नामक तारा ध्रुव तारा बन जायेगा.

वैज्ञानिकों के अनुसार इससे पहले भी अतीत में ध्रुवों का स्थानांतरण हो चुका है और तब ‘थुबान’ नामक ध्रुवतारे का स्थान ‘पोलारिस’ ने लिया था.
‘एडगर केसी’ कहते हैं इसके बाद सतयुग की शुरुआत होगी.
आश्चर्यजनक रूप से ‘स्कंद पुराण’ भी एक अजीबोगरीब घोषणा करता है. इसमे नये बद्रीनाथ और नये केदारनाथ के उद्भव को बताया गया है और पुराने दोनों धामों के समय बाह्य हो जाने की बात कही गई है. ऐसा नये युग में होगा…984211_741823165885556_7448193345329221571_n