Monthly Archives: October 2016

दीवाली 2016

hy02diwali_gei7_hy_1640013e

दीवाली शरद ऋतु में मनाया जाने वाला प्राचीन हिंदू त्यौहार है. यह त्यौहार अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है.
भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में दीवाली प्रमुख त्यौहार है. इसे सिख तथा जैन भी मनाते हैं. जैन धर्म के लोग इसे भगवान महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं तथा सिख समुदाय इसे बंदी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है.

माना जाता है दीवाली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात वापिस लौटे थे. अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से उल्लसित था. श्रीराम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए. कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी थी. तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश पर्व बड़े हर्ष व उल्लास से मनाते हैं. यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है. दीवाली दीपों का त्यौहार है और यह असत्य पर सत्य की विजय को दर्शाता है. दीवाली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है कई सप्ताह पूर्व ही दीवाली की तैयारियां आरंभ हो जाती हैं. लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं. लोग घरों, दुकानों और प्रतिष्ठानों को साफ़ सुथरा कर सजाते हैं और अपने दोस्तों, सम्बन्धियों को नाना प्रकार के उपहार, मेवे और मिठाईयां बांटते हैं. खूब आतिशबाजी होती है.

इस वर्ष यह त्यौहार 30 अक्टूबर को मनाया जा रहा है.