बारह राशियों में चंद्रमा

be56मेष में चंद्रमा –
मेष में चंद्रमा व्यक्ति में धैर्य की कमी कर देता है और व्यक्ति हठी होता है. मां मुसीबत में फंसे लोगों की मदद तो नहीं करती पर उनसे सहानुभूति अवश्य रखती है.

वृषभ में चंद्रमा –
वृषभ में चंद्रमा होने पर व्यक्ति खुले विचारों वाला और स्वयं को महान समझने की धारणा पाले होता है. बावजूद इसके मन में तुच्छ विचार घर किये रहते हैं. मां समाज में आदर और सम्मान पाती हैं.

मिथुन में चंद्रमा –
मिथुन में चंद्रमा होने पर व्यक्ति का मन बौद्धिकता की ओर अग्रसर रहता है. वह व्यवहार कुशल और विश्वासपात्र होता है. व्यक्ति की मां का भी यही स्वभाव होता है.

कर्क में चंद्रमा –
कर्क में चंद्रमा मन को चंचल बनाता है. व्यक्ति का रुझान परोपकार और कला की ओर होता है. मां का भी यही स्वभाव होता है और वह समाज में लोकप्रिय होती है.

सिंह में चंद्रमा –
सिंह का चंद्रमा व्यक्ति को एक निश्चित सोच देता है. उसके विचारों में दृढ़ता होती है. व्यर्थ संभाषण नहीं करता और सम्मान प्राप्ति की गहरी चाह होती है. मां का परिवार में दबदबा होता है और उसी की चलती है.

कन्या में चंद्रमा –
व्यक्ति बुद्धिमान होता है और लोगों से तुरंत घुलमिल जाता है. स्वयं को सामाजिक कार्यों में व्यस्त रखने का स्वभाव होता है. चीजों को बहुत आश्वस्त होकर ही अपनाने की प्रवृत्ति होती है. विचारशील होता है. मां बुद्धिमान और सदा धन संचय में लगी रहती है.

तुला में चंद्रमा –
तुला का चंद्रमा धन के मामले में व्यक्ति को महत्वाकांक्षी बना देता है. हालांकि व्यक्ति जाहिर यह करता है की उसे धन से मोह नहीं. लेकिन वास्तव में धन पर उसकी पकड़ बहुत मजबूत होती है. मां कुटिल स्वभाव की और उसकी तरह ही लोभी होती है. जोड़ों में दर्द रहता है.

वृश्चिक में चंद्रमा –
व्यक्ति का स्वभाव अजीब होता है. बेकार की बातों में बहुत रूचि होती है. मन बेमतलब इधर उधर दौड़ता रहता है. बगुला भगत बन ज्ञान बांटना और लोगों को आपस में उलझाकर मजे लेना स्वभाव होता है. मां भी ऐसी ही होती है. यदि चंद्रमा पर शुभ ग्रहों की दृष्टि ना हो तो मां समाज में बदनाम भी होती है.

धनु में चंद्रमा –
व्यक्ति का स्वभाव गंभीर होता है. विचारों में पवित्रता और खुलापन होता है. मानसिक चिंताओं के कारण मन उदास रहता है. मां भली होती है लेकिन जीवन में अनेक कष्ट पाती है. मां को सर्दी जुकाम बना ही रहता है और डाक्टरी मदद से ही आराम आता है.

मकर में चंद्रमा –
मकर का चंद्रमा स्वभाव में अतिशय भावुकता देता है. जल्दबाजी में लिए गए निर्णयों से हानि उठानी पड़ती है. कभी कभी पूरा जीवन एक इच्छा पर ही अटका रह जाता है. जीवन में एक बार पतन अवश्य होता है. मां सर्द गर्म से परेशान और अक्सर बीमार सी ही रहती है.

कुंभ में चंद्रमा –
व्यक्ति के दिमाग में हमेशा कुछ उधेड़बुन चलती रहती है. इसका पता लोगों को उचित अवसर पर ही चलता है. मां भली और परोपकारी होती है और गठिया एवं जोड़ों के दर्द से कष्ट पाती है.

मीन में चंद्रमा –
व्यक्ति की आंखें चमकदार और उनमें चंचलता झांकती है. धार्मिक विचारों पर अनुभव का प्रभाव होता है. स्वभाव में रोमानियत के दर्शन होते रहते हैं. लोगों की मदद करने की भी प्रवृत्ति होती है. मां सर्दी जुकाम से पीड़ित और ईश्वर को याद करती रहती है.